हड़प्पा सभ्यता...

हड़प्पा सभ्यता को हरयूपिया ऋग्वेद में कहा गया है।

Read More...

सर्वप्रथम चमड़...

सर्वप्रथम चमड़े पर बने चित्र का उल्लेख हमें ऋग्वेद से प्राप्त होता है।

Read More...

सबसे प्राचीन व...

सबसे प्राचीन वेद ऋग्वेद है।

Read More...

शाकल, वाष्कल, आश...

शाकल, वाष्कल, आश्वलायन, शांखायन तथा मांडूक्य ऋग्वेद की शाखाएं हैं।

Read More...

वेदांग ज्योतिष...

वेदांग ज्योतिष के ऋग्वेद एवं यजुर्वेद से सम्बन्धित दो ग्रंथ हैं।

Read More...

वेदांग ज्योतिष...

Read More...

वेदांग ज्योतिष...

वेदांग ज्योतिष के ऋग्वेद एवं यजुर्वेद से सम्बन्धित ग्रंथों के नाम आचार्य ज्योतिष एवं याजुष ज्योतिष है।

Read More...

वेदांग ज्योतिष...

Read More...

वामनावतार के त...

वामनावतार के तीन पगों के आख्यान का प्राचीनतम स्रोत ऋग्वेद में है।

Read More...

लोपामुद्रा, घो...

लोपामुद्रा, घोषा, सिकता, आपला एवं विश्वास जैसी विदुषी स्त्रियों का वर्णन ऋग्वेद में है।

Read More...

भारत में संगीत ...

भारत में संगीत का प्रारम्भिक उदाहरण ऋग्वेद एवं सामवेद के गीत थे।

Read More...

प्राचीन रचना ऋ...

Read More...

प्राचीन रचना ऋ...

प्राचीन रचना ऋग्वेद में उल्लिखित 'ऋक्' का अर्थ छन्दों तथा चरणों से युक्त मंत्र है।

Read More...

पाप-पुण्य तथा स...

पाप-पुण्य तथा स्वर्ग नरक का उल्लेख सर्वप्रथम ऋग्वेद में मिलता है।

Read More...

दसराज्ञ युद्ध ...

Read More...

दसराज्ञ युद्ध ...

दसराज्ञ युद्ध का उल्लेख ऋग्वेद के 7वें मंडल में है।

Read More...

जैन तीर्थंकर ऋ...

जैन तीर्थंकर ऋषभदेव एवं अरिष्टनेमि के नामों का उल्लेख ऋग्वेद में मिलता है।

Read More...

चारों वेदो के न...

चारों वेदो के नाम ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद एवं अथर्ववेद हैं।

Read More...

चारों वर्णों क...

चारों वर्णों की उत्पत्ति का साक्ष्य ऋग्वेद के दसवें मण्डल में मिलता है।

Read More...

चारों वर्णों क...

Read More...

गायत्री मंत्र ...

गायत्री मंत्र का उल्लेख ऋग्वेद के तीसरे मण्डल में है।

Read More...

गायत्री मंत्र ...

Read More...

कण्व और अंगिरस ...

Read More...

कण्व और अंगिरस ...

कण्व और अंगिरस वंश को ऋग्वेद का आठवां मण्डल समर्पित है।

Read More...

ऋषभदेव तथा अरि...

ऋषभदेव तथा अरिष्टनेमि का उल्लेख ऋग्वेद में मिलता है।

Read More...

ऋग्वैदिक समाज ...

ऋग्वैदिक समाज चार वर्णों में विभक्त था।

Read More...

ऋग्वैदिक समाज ...

Read More...

ऋग्वैदिक काल म...

ऋग्वैदिक काल में श्रेष्ठ लोगों की संस्था को समिति कहते थे।

Read More...

ऋग्वैदिक काल म...

Read More...

ऋग्वैदिक काल म...

Read More...

ऋग्वैदिक काल म...

ऋग्वैदिक काल में प्रगति एवं उत्थान-देवता का सम्बन्ध ऊषा देवता से था।

Read More...

ऋग्वैदिक काल म...

Read More...

ऋग्वैदिक काल म...

ऋग्वैदिक काल में पुलिस को उग्र कहते थे।

Read More...

ऋग्वैदिक काल म...

ऋग्वैदिक काल में गुप्तचर को स्पश कहते थे।

Read More...

ऋग्वैदिक काल म...

Read More...

ऋग्वैदिक काल म...

ऋग्वैदिक काल में ऊनी कपड़े को सामूल्य कहते थे।

Read More...

ऋग्वैदिक काल म...

Read More...

ऋग्वैदिक काल म...

ऋग्वैदिक काल में 274 मिट्टी की मुहरें बसाढ़ (प्रारम्भिक वैशाली) स्थान से मिली हैं।

Read More...

ऋग्वैदिक काल म...

Read More...

ऋग्वैदिक काल क...

Read More...

ऋग्वैदिक काल क...

ऋग्वैदिक काल के सबसे प्रतापी देवता 'भगवान इन्द्र' थे।

Read More...

ऋग्वैदिक काल क...

ऋग्वैदिक काल की सबसे महत्वपूर्ण नदी सिन्धु थी।

Read More...

ऋग्वैदिक काल क...

Read More...

ऋग्वैदिक काल क...

Read More...

ऋग्वैदिक काल क...

ऋग्वैदिक काल का समाज कबीले के रूप में संगठित था।

Read More...

ऋग्वैदिक काल क...

Read More...

ऋग्वैदिक काल क...

Read More...

ऋग्वैदिक काल क...

ऋग्वैदिक काल का समय 1500-1000 ईसा पूर्व तक था।

Read More...

ऋग्वैदिक काल क...

ऋग्वैदिक काल का समय 1500 ईसा पूर्व था।

Read More...

ऋग्वेद, सामवेद ...

ऋग्वेद, सामवेद तथा यजुर्वेद इन तीनों वेदों को वेदत्रयी या त्रयी कहा जाता है।

Read More...

ऋग्वेद, सामवेद ...

Read More...

ऋग्वेद, यजुर्व...

Read More...

ऋग्वेद, यजुर्व...

ऋग्वेद, यजुर्वेद तथा सामवेद को 'वेदत्रयी' या 'त्रयी' भी कहा जाता है।

Read More...

ऋग्वेद में सोम ...

Read More...

ऋग्वेद में सोम ...

ऋग्वेद में सोम देवता का 9वें मंडल में उल्लेख है।

Read More...

ऋग्वेद में सर्...

ऋग्वेद में सर्वाधिक पवित्र नदी सरस्वती को नदियों की माता कहा गया है।

Read More...

ऋग्वेद में सर्...

Read More...

ऋग्वेद में सर्...

ऋग्वेद में सर्वाधिक उल्लेख सिन्धु नदी का हुआ है।

Read More...

ऋग्वेद में सर्...

Read More...

ऋग्वेद में सबस...

ऋग्वेद में सबसे महत्वपूर्ण एवं पवित्र नदी सरस्वती नदी को मानी जाती है।

Read More...

ऋग्वेद में सबस...

Read More...

ऋग्वेद में यमु...

ऋग्वेद में यमुना नदी का उल्लेख तीन बार हुआ है।

Read More...

ऋग्वेद में यमु...

Read More...

ऋग्वेद में भगव...

Read More...

ऋग्वेद में भगव...

ऋग्वेद में भगवान इन्द्र के लिए 250 ऋचाओं की रचना की गई है।

Read More...

ऋग्वेद में प्र...

ऋग्वेद में प्रसिद्ध गायत्री मंत्र तीसरे मंडल में है।

Read More...

ऋग्वेद में प्र...

Read More...

ऋग्वेद में नाई ...

ऋग्वेद में नाई को वप्ता कहा जाता था।

Read More...

ऋग्वेद में नाई ...

Read More...

ऋग्वेद में दूस...

ऋग्वेद में दूसरे से सातवें मण्डल तक को वंश मण्डल कहते हैं।

Read More...

ऋग्वेद में दूस...

Read More...

ऋग्वेद में गंग...

Read More...

ऋग्वेद में गंग...

ऋग्वेद में गंगा नदी का एक बार उल्लेख हुआ है।

Read More...

ऋग्वेद में क्ष...

Read More...

ऋग्वेद में क्ष...

ऋग्वेद में क्षत्रिय के लिये 'राजन्य शब्द' का प्रयोग होता था।

Read More...

ऋग्वेद में कित...

Read More...

ऋग्वेद में कित...

Read More...

ऋग्वेद में कित...

Read More...

ऋग्वेद में कित...

Read More...

ऋग्वेद में कित...

Read More...

ऋग्वेद में इन्...

Read More...

ऋग्वेद में इन्...

ऋग्वेद में इन्द्र देवता का सर्वाधिक 250 बार उल्लेख हुआ है।

Read More...

ऋग्वेद में इन्...

Read More...

ऋग्वेद में इन्...

ऋग्वेद में इन्द्र के लिए 250 ऋचाओं की रचना की गई है।

Read More...

ऋग्वेद में अग्...

Read More...

ऋग्वेद में अग्...

ऋग्वेद में अग्नि के लिए 200 ऋचाओं की रचना की गई है।

Read More...

ऋग्वेद में 21 नद...

ऋग्वेद में 21 नदियों का जिक्र है।

Read More...

ऋग्वेद में 21 नद...

ऋग्वेद में 21 नदियों का उल्लेख मिलता है।

Read More...

ऋग्वेद में 10462 ऋ...

ऋग्वेद में 10462 ऋचाएँ है।

Read More...

ऋग्वेद में 1028 सू...

ऋग्वेद में 1028 सूक्त है।

Read More...

ऋग्वेद में 10 मं...

ऋग्वेद में 10 मंडल है।

Read More...

ऋग्वेद के रचयि...

ऋग्वेद के रचयिता का नाम 'विश्वामित्र' है।

Read More...

ऋग्वेद के रचयि...

Read More...

ऋग्वेद के दूसर...

Read More...

ऋग्वेद के दूसर...

ऋग्वेद के दूसरे से सातवें तक के मण्डल को 'वंश मण्डल' के नाम से जाना जाता है।

Read More...

ऋग्वेद के दसवे...

ऋग्वेद के दसवें मण्डल में पुरूष सूक्त वर्णन मिलता है।

Read More...

ऋग्वेद के दसवे...

Read More...

ऋग्वेद के दसवे...

ऋग्वेद के दसवें मण्डल के पुरूषसूक्त में चारो वर्णों का उल्लेख है।

Read More...

ऋग्वेद के दसवे...

Read More...

ऋग्वेद के चातु...

Read More...

ऋग्वेद के चातु...

ऋग्वेद के चातुष्वर्ण्य समाज की कल्पना का आदि स्रोत 10वें मंडल में है।

Read More...

ऋग्वेद के ऋचाओ...

Read More...

ऋग्वेद के 8वें म...

ऋग्वेद के 8वें मंडल कि हस्तलिखित ऋचाओं को खिल कहा जाता है।

Read More...

ऋग्वेद के 8वें म...

Read More...

ऋग्वेद के 10वें ...

ऋग्वेद के 10वें मंडल में वर्णित पुरूषसूक्त चारों वर्ण भगवान (आदि पुरूष) ब्रह्मा के अंगो से उत्पन्न हुए है।

Read More...

ऋग्वेद के 10वें ...

Read More...

ऋग्वेद के 10वें ...

ऋग्वेद के 10वें मंडल में ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, एवं शूद्र का उल्लेख है।

Read More...

ऋग्वेद के 10वें ...

Read More...

ऋग्वेद के 10वें ...

ऋग्वेद के 10वें मंडल में आदि पुरूष ब्रह्मा के मुख से ब्राह्मण की उत्पत्ति हुई है।

Read More...

ऋग्वेद के 10वें ...

Read More...

ऋग्वेद के 10वें ...

ऋग्वेद के 10वें मंडल में आदि पुरूष ब्रह्मा के भुजाओं से क्षत्रिय वर्ण की उत्पत्ति हुई है।

Read More...

ऋग्वेद के 10वें ...

Read More...

ऋग्वेद के 10वें ...

ऋग्वेद के 10वें मंडल में आदि पुरूष ब्रह्मा के जंघाओं से वैश्य वर्ण की उत्पत्ति हुई है।

Read More...

ऋग्वेद के 10वें ...

Read More...

ऋग्वेद के 10वें ...

ऋग्वेद के 10वें मंडल में आदि पुरूष ब्रह्मा के चरणों से शूद्र वर्ण की उत्पत्ति हुई है।

Read More...

ऋग्वेद के 10वें ...

Read More...

ऋग्वेद की ऋचाओ...

ऋग्वेद की ऋचाओं के पढ़ने वाले ऋषि को 'होतृ' कहते है।

Read More...

ऋग्वेद की अनेक ...

ऋग्वेद की अनेक संहिताओं में से शाकल संहिता ही उपलब्ध है।

Read More...

ऋग्वेद की अनेक ...

Read More...

ऋग्वेद का उपवे...

Read More...

ऋग्वेद का उपवे...

ऋग्वेद का उपवेद आयुर्वेद है।

Read More...

ऋग्वेद का आठवा...

Read More...

ऋग्वेद का आठवा...

ऋग्वेद का आठवां मण्डल कण्व और आंगिरस वंश को समर्पित है।

Read More...

अथर्ववेद में ल...

अथर्ववेद में लगभग 1200 मंत्र ऋग्वेद से उद्धृत हैं।

Read More...

अथर्ववेद में क...

Read More...

Category

Tags