विग्रहराज तृती...

विग्रहराज तृतीय की रचना का नाम हरिकेलि था।

Read More...